Contact Us

Popular Posts

ज्वालादेवी की लौ क्यों जल रही है, कोई क्यों नहीं बताता ?

सोचता हूँ, कैसा वायरस बनाया है, मुख से उत्पन्न श्रेष्ठ-जनों ने ?

बुद्ध के पहले अंधकार का युग था और बुद्ध के बाद प्रकाश का युग है।

जाति-उन्मूलन के बिना सत्य-अहिंसा के सिद्धांत की क्या प्रासंगिकता ?

"कोई भी पैग़म्बर आख़िरी नहीं हो सकता है, दुनिया रोज़ बदलती है..."

धर्म के नाम पर राजनीति, पाखंड, अंधविश्वास, शोषण सब चलता है।

“ताबिश सिद्दिक़ी हिन्दू भी बन सकता है, मुसलमान भी, बुद्धिस्ट भी और..”